home page

NPS Pensioners : पेंशनभोगियों के लिए बड़ा अपडेट, जानिए गारंटीड रिटर्न को लेकर सरकार का प्लान

NPS Pensioners : लाखों पेंशनभोगियों के लिए अच्छी खबर आई है। पेंशन नियामक PFRDA (पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी) नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के तहत मिनिमम एश्योर्ड रिटर्न स्कीम लेकर आ रहा है।
 | 
NPS Pensioners : पेंशनभोगियों के लिए बड़ा अपडेट, जानिए गारंटीड रिटर्न को लेकर सरकार का प्लान

NPS Pensioners : लाखों पेंशनभोगियों के लिए अच्छी खबर आई है। पेंशन नियामक PFRDA (पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी) नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के तहत मिनिमम एश्योर्ड रिटर्न स्कीम लेकर आ रहा है। इससे पेंशनभोगियों को काफी फायदा होगा।

ऑफिस की 8 योजनाएं, जो आपको चंद सालों में बनाती हैं करोड़पति

पेंशन फंड नियामक और विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने योजना को डिजाइन करने के लिए सलाहकारों के प्रस्ताव के अनुरोध से सुझाव आमंत्रित किए हैं। इससे पहले पेंशन नियामक के अध्यक्ष सुप्रतिम बंद्योपाध्याय ने कहा था कि इस संबंध में पेंशन फंड और बीमांकिक फर्मों के साथ चर्चा की जा रही है।

पीएफआरडीए अधिनियम के तहत न्यूनतम सुनिश्चित रिटर्न योजना की अनुमति है।पेंशन फंड योजनाओं के तहत प्रबंधित की जा रही निधियां मार्क-टू-मार्केट हैं। इसमें कुछ उतार-चढ़ाव हैं। इनका मूल्यांकन बाजार की स्थितियों के आधार पर किया जाता है।

जानिए क्या है नेशनल पेंशन स्कीम (NPS)

केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के लिए 1 जनवरी 2004 को अनिवार्य रूप से राष्ट्रीय पेंशन योजना लागू की थी। इसके बाद सभी राज्यों ने अपने कर्मचारियों के लिए एनपीएस लागू किया है। 2009 के बाद निजी क्षेत्र में काम करने वालों के लिए भी यह योजना शुरू की गई है।

कर्मचारी सेवानिवृत्ति के बाद एनपीएस का एक हिस्सा निकाल सकते हैं।साथ ही बाकी रकम से आप नियमित आय के लिए एन्युटी ले सकते हैं। 18 से 70 वर्ष की आयु का कोई भी व्यक्ति एनपीएस का लाभ उठा सकता है।

जानिए क्या कह रहे हैं सलाहकार

पीएफआरडीए के आरएफपी ड्राफ्ट के अनुसार, एनपीएस के तहत गारंटीड रिटर्न योजना की तैयारी के लिए एक सलाहकार की नियुक्ति से पीएफआरडीए और सेवा प्रदाता के बीच प्रिंसिपल-एजेंट संबंध नहीं बनना चाहिए। पीएफआरडीए अधिनियम के निर्देशों के अनुसार, राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत एक योजना का चयन करने वाले ग्राहक जो ‘न्यूनतम सुनिश्चित रिटर्न’ देता है, ऐसी योजना को नियामक के साथ पंजीकृत पेंशन फंड द्वारा पेश करना होगा।

इस तरह सलाहकारों को पेंशन फंड द्वारा मौजूदा और संभावित ग्राहकों के लिए ‘न्यूनतम सुनिश्चित रिटर्न’ योजना तैयार करनी होगी।