home page

Sukanya Samriddhi Yojana : अब सरकार उठाएगी बेटियों की पढ़ाई और शादी की जिम्मेदारी, बदले नियम

Sukanya Samriddhi Yojana : बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक की चिंता से मुक्त रहें क्योंकि सरकार एक जबरदस्त योजना लेकर आई है जिसमें अगर आपकी जुड़वां बेटियां भी हैं तो भी सरकार दोनों बेटियों को बेहतरीन सुविधाएं मुहैया कराएगी।
 | 
Sukanya Samriddhi Yojana : अब सरकार उठाएगी बेटियों की पढ़ाई और शादी की जिम्मेदारी, बदले नियम

Sukanya Samriddhi Yojana : बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक की चिंता से मुक्त रहें क्योंकि सरकार एक जबरदस्त योजना लेकर आई है जिसमें अगर आपकी जुड़वां बेटियां भी हैं तो भी सरकार दोनों बेटियों को बेहतरीन सुविधाएं मुहैया कराएगी।

कई तरह के नियम बदले हैं। जानिए पूरी जानकारी।सुकन्या समृद्धि योजना के तहत निवेश करके आप अपनी बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक के खर्च के लिए पैसे जोड़ सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 साल से कम उम्र की बेटियों का खाता उनके माता-पिता के नाम ही खोला जाता है।

यह है सुकन्या समृद्धि योजना

हमारे घरों में जब भी कोई लड़की पैदा होती है। सुकन्या समृद्धि योजना जन्म से ही बालिकाओं के माता-पिता के भविष्य के लिए एक ऐसी दीर्घकालिक योजना है। इसमें निवेश करके आप अपनी बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक के खर्च के लिए पैसे जोड़ सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 साल से कम उम्र की बेटियों का खाता उनके माता-पिता के नाम ही खोला जाता है। इस योजना के तहत सालाना 250 रुपये से लेकर 1.50 रुपये तक का निवेश किया जा सकता है।

योजना का लाभ उठाएं

सुकन्या समृद्धि योजना ऐसी ही एक दीर्घकालिक योजना है। इसमें निवेश करके आप अपनी बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक के खर्च के लिए पैसे जोड़ सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 साल से कम उम्र की बेटियों का खाता उनके माता-पिता के नाम ही खोला जाता है। इस योजना के तहत सालाना 250 रुपये से लेकर 1.50 रुपये तक का निवेश किया जा सकता है।

खुल सकता है इतनी बेटियों का खाता

पहले इस योजना में केवल दो बेटियों के खाते पर 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती थी। लेकिन अब यह बदल गया है और नियम के तहत अगर एक बेटी के बाद दो जुड़वां बेटियां पैदा होती हैं तो उनके खाते में भी TEX छूट मिलेगी.

इन परिस्थितियों में बंद हो सकता है खाता

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खोले गए खाते को पहली दो परिस्थितियों में बंद किया जा सकता है। अगर बच्ची की मृत्यु हो जाती है या बेटी का पता बदल दिया जाता है तो यह खाता बंद किया जा सकता है। लेकिन नए बदलाव के बाद खाताधारक की जानलेवा बीमारी को भी इसमें शामिल कर लिया गया है। माता-पिता की मृत्यु के बाद भी सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खोले गए खाते को समय से पहले बंद किया जा सकता है।

ऐसे खोलें खाता

इस योजना का लाभ लेने के लिए आप किसी भी नजदीकी डाकघर या बैंक में जाकर खाता खुलवा सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना 21 साल में परिपक्व होती है। हालांकि लड़की की उम्र 18 साल होने के बाद इस खाते से पढ़ाई के लिए रकम निकाली जा सकती है। पूरी राशि 21 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद ही मिलती है।

योजना का लाभ लेने के लिए जरूरी हैं ये दस्तावेज

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता खोलते समय पोस्ट ऑफिस या बैंक में लड़की का जन्म प्रमाण पत्र देना जरूरी है। इसके साथ ही लड़की और उसके माता-पिता के पहचान पत्र और पते के प्रमाण की आवश्यकता होती है।

इस तरह खाते में जमा हो जाएगी राशि

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में निवेश की गई राशि को बैंक द्वारा स्वीकार किए गए नकद, चेक, डिमांड ड्राफ्ट या किसी अन्य मोड में जमा किया जा सकता है।

इतना ब्याज मिलेगा

वर्तमान में सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश पर 7.6% की दर से ब्याज मिल रहा है। इस योजना के तहत आप एक छोटी राशि का निवेश करके लाखों रुपये जोड़ सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना पर बैंक या डाकघर की सभी बचत योजनाओं से ज्यादा ब्याज मिल रहा है। अगर आप इस योजना के तहत हर महीने 1000 रुपये तक का निवेश करते हैं तो आपको 10 लाख रुपये से अधिक की राशि इस तरह 7.6% ब्याज दर पर मिलेगी।