अब इंडिया रहेगा ऑनलाइन

मोदी सरकार का अलग-अलग वर्गों को आत्मनिर्भर बनाने का सपना, दे रही 2 लाख का लोन

न्यूज डेस्क, दून हॉराइज़न, नई दिल्ली

केंद्र सरकार ने अलग-अलग वर्गों के लोगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कई खास स्कीम लॉन्च की है। इसी कड़ी में सरकार ने स्ट्रीट वेंडर्स के लिए पीएम-स्वनिधि स्कीम की शुरुआत की। वहीं, महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए न्यू स्वर्णिमा लोन स्कीम लॉन्च की गई।

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास निगम (एनबीसीएफडीसी) की इस स्कीम के जरिए सरकार पिछड़े वर्ग की महिलाओं को टर्म लोन देकर आत्मनिर्भरता बनाना चाहती है। आइए इस स्कीम की डिटेल जान लेते हैं।

पात्रता

न्यू स्वर्णिमा स्कीम के अंतर्गत केंद्र/राज्य सरकारों द्वारा समय-समय पर अधिसूचित पिछड़ा वर्ग की महिलाएं लोन के लिए पात्र होंगी। आवेदक की वार्षिक पारिवारिक आय 3.00 लाख रुपये से कम होनी चाहिए।

योजना के तहत मिलने वाली लोन रकम, सामान्य लोन के ब्याज दर की तुलना में कम है।

कितनी है लोन की रकम

योजना के दायरे में आने वाली लाभार्थी महिला को अधिकतम 2 लाख रुपये का लोन मिल जाता है। योजना के तहत रकम की फाइनेंसिंग का पैटर्न कुछ इस तरह है।

ब्याज दर   

इस योजना के तहत ब्याज दर 5% प्रति वर्ष है। वहीं, लोन का भुगतान अधिकतम 8 वर्षों में किया जाना है। बता दें कि लोन की ईएमआई का भुगतान त्रैमासिक यानी 3 महीने के आधार पर करना है।

इस स्कीम में शर्त के साथ छह महीने का मोरेटोरियम भी मिल सकता है। स्कीम से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नं० 18001023399 के अलावा वेबसाइट www.nbcfdc.gov.in पर विजिट कर सकते हैं।

3 साल में कितने लाभार्थी

पिछले 3 वर्षों के दौरान योजना के अंतर्गत सहायता प्राप्त लाभार्थियों की संख्या मामूली रही है। सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री के एम. प्रतिमा भौमिक ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित जवाब में बताया कि साल- 2020-21, 2021-22, 2022-23 में अलग-अलग राज्यों के कुल लाभार्थियों की संख्या क्रमश: 6193, 7764, 5573 थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.