अब इंडिया रहेगा ऑनलाइन

जिन महिलाओं के बड़े होते हैं ये अंग, परिवार के लिए होती है भाग्यशाली

न्यूज डेस्क, दून हॉराइज़न, नई दिल्ली

भारतीय संस्कृति मे औरत को पूजनीय माना गया है। इसलिए हमारे यहां कन्याओं को पूजना जाता है। दोस्तों, सामुद्रिक शास्त्र और गरुड़ पुराण (Garuda Purana) में महिलाओं के अंगों के बारे में बहुत कुछ बताया गया है। जिनसे भाग्यशाली औरत की पहचान कि जा सकती है, आइए जानते हैं…

दोस्तों शास्त्रों में वर्णित है कि लंबे बालों वाली महिलाएं पद्मिनी होती हैं अर्थात उच्च कोटि की होती हैं। दोस्तों लंबे और रेशमी बाल और सौंदर्य का प्रतीक होते हैं। हम आपको बताते हैं कि महिलाओं के कौन से अंग उनके पति और परिवार के लिए भाग्यशाली होते हैं और ऐसी स्त्री परिवार का का भाग्य बदल सकती हैं। तो आइए जानते हैं

लंबी गर्दन वाली महिलाओं को सामुद्रिक शास्त्र में मंगलकारी माना जाता है। शालिनी महिलाओं की गर्दन लंबी होती है, दोस्तों। उनके पास पूरा वैभव है और उनके रहते पति को कभी भी पैसा नहीं मिलता।

सामुद्रिक शास्त्र और गरूण पुराण कहते हैं कि बड़े वक्षस्थल और ऊंचे सुडोल वाली महिलाएं सौभाग्यशाली होती हैं।

दोस्तों, पुष्ट जं-घाएं और माशल भी सौभाग्य का प्रतीक हैं। सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार मांसल जं-घाएं सौभाग्यशाली होती हैं। इनसे पति को घर और कार दोनों की सुविधाएं बेहतर मिलती हैं। शास्त्रों ने पतली और विकृत जं-घाओं को अच्छा नहीं माना है।

बड़ी आंखों वाली महिलाएं बहुत सौभाग्यशाली होती हैं, दोस्तों। यह विद्वान विवेकशील और बहुत बुद्धिमान हैं। यह पूरे परिवार को अच्छा करती है और विपत्ति में पूरे परिवार को संभालती है।

इनके रहते कभी भी पैसा नहीं कम होता।

कुछ लंबी नाक वाली महिलाएं आम तौर पर शांत और गंभीर होती हैं। यह हर हालात का सामना कर सकते हैं। इससे पूरा परिवार सुरक्षित है। साथ ही, सामान्य कान और सामान्य सिर वाली महिलाएं परिवार में अच्छी मानी जाती हैं।

सामुद्रिक शास्त्र में महिलाओं के पैरों और हाथों का आकार बहुत महत्वपूर्ण है। सामान्य आकार के चिकने पैर वाली महिलाएं लक्ष्मी कि तरह भाग्यशाली होती हैं। यह महिलाएं बहुत सौभाग्यशाली और पति के लिए लकी होती हैं क्योंकि इनके पैरों की सबसे छोटी उंगली कुछ लंबी और जमीन को दिखाती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.