अब इंडिया रहेगा ऑनलाइन

Chanakya Neeti : इन कामों को करने में लड़किय़ां को आता है मज़ा, करती है ऐसी हरकतें

न्यूज डेस्क, दून हॉराइज़न, नई दिल्ली

Chanakya Niti: आधुनिक दुनिया में भी, लाखों लोग कौटिल्य नीति को प्रतिदिन उनके शब्दों में पढ़ते हैं और उससे प्रेरित होकर, कई राजनेता, व्यवसायी आज भी चाणक्य उद्धरणों को आधुनिक जीवन में उपयोगी पाते हैं।

आचार्य चाणक्य के बारे में राजनीति, व्यापार और धन पर ज्ञान इतना सही उपयोगी है आज भी। आचार्य चाणक्य के इस ज्ञान को नैतिकता के नाम से जाना जाता है। चाणक्य नीति आपको जीवन में कुछ भी हासिल करने में मदद करती है, चाहे आप किसी भी क्षेत्र में हों।

चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में महिलाओं की इच्छा का उल्लेख किया है। चाणक्य ने स्त्री और पुरुष की तुलना करके अपने विचार व्यक्त किए हैं। महिलाओं में पुरुषों की तुलना में दोगुनी भूख होती है।

हमें भविष्य के समाचार पत्रों में विस्तार से बताएं। चाणक्य नीति मूल रूप से संस्कृत में लिखी गई थी, जिसे बाद में अंग्रेजी और कई अन्य भाषाओं के साथ-साथ हिंदी में भी अनुवादित किया गया।

अगर आप चाणक्य नीति को पूरा पढ़ेंगे और उसका पालन करेंगे तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

आचार्य चाणक्य ने भी अपनी राजनीतिक पुस्तकों में महिलाओं के विशेष लक्षणों का वर्णन किया है, जिन्हें महिलाएं हमेशा अपनी चेतना में रखती हैं।

उसने इस बारे में किसी को नहीं बताया। चाणक्य अपनी राजनीति में महिलाओं को पुरुषों के बराबर मानते हैं और अपने विचार व्यक्त करते हैं।

इस राजनीति में आचार्य चाणक्य ने नारी की भूख, लज्जा, अर्थ, लज्जा, साहस और वासना का वर्णन किया है। आइए जानें ऐसी कौन सी चीजें हैं जो महिलाएं अब शेयर नहीं करती हैं।

आचार्य चाणक्य के उपरोक्त श्लोक के अनुसार नारी शक्ति का वर्णन किया गया है। आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं को पुरुषों की तुलना में दोगुनी भूख लगती है।

आज की लाइफस्टाइल में काम से महिलाओं की डाइट तो बाधित होती है, लेकिन वे अपनी भूख को कंट्रोल में रखती हैं।

आचार्य चाणक्य की चाणक्य नीति के अनुसार पुरुषों की तुलना में महिलाओं में शर्मिंदगी चार गुना अधिक होती है। महिलाओं को इस कदर शर्मिंदगी उठानी पड़ती है कि वो अक्सर कुछ भी कहने की सोचती हैं.

चाणक्य नीति के अनुसार महिलाएं शुरू से ही साहसी होती हैं। वहीं महिलाएं भी पुरुषों की तुलना में छह गुना बहादुर होती हैं।

इसलिए नारी को शक्ति की प्रतिमूर्ति के रूप में भी देखा जाता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक कामेच्छा आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं में भी काम की इच्छा पुरुषों के मुकाबले आठ गुना ज्यादा होती है, लेकिन उनमें शर्म और सहनशीलता बहुत होती है।

इसलिए वे इसका खुलासा नहीं करतीं और अपने संस्कारों को ध्यान में रखकर उनकी रक्षा करती हैं. . पूरी गरिमा के साथ परिवार।

Leave A Reply

Your email address will not be published.