अब इंडिया रहेगा ऑनलाइन

ये हैं आपके लिए बेस्ट म्यूचुअल फंड योजनाएं!

प्रत्यक्ष बाजार में पैसा लगाने की तुलना में म्यूचुअल फंड को थोड़ा कम जोखिम भरा माना जाता है। म्यूचुअल फंड में कई तरह के फंड होते हैं जैसे डेट फंड, इक्विटी फंड और हाइब्रिड फंड आदि।

आमतौर पर अगर आप लंबे समय के लिए निवेश करना चाहते हैं तो इक्विटी फंड में निवेश करने की सलाह दी जाती है। माना जा रहा है कि लंबी अवधि में इक्विटी से बेहतर रिटर्न मिलने की संभावना है.

लेकिन अगर आप छोटी अवधि यानी अधिकतम तीन साल तक के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं। लेकिन अगर आप ज्यादा जोखिम नहीं लेना चाहते हैं और अच्छा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो विशेषज्ञ डेट फंड में निवेश की सलाह देते हैं। म्यूचुअल फंड में डेट फंड को सुरक्षित विकल्प माना जाता है. आइए आपको डेट फंड के बारे में बताते हैं-

जानिए क्या है डेट फंड

डेट फंड में निवेशकों से लिया गया पैसा निश्चित आय वाली प्रतिभूतियों जैसे बांड, सरकारी प्रतिभूति, ट्रेजरी बिल और गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर आदि में निवेश किया जाता है। यानी डेट फंड का पैसा सुरक्षित जगह पर निवेश किया जाता है। डेट फंड को इक्विटी से ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। इसमें लिक्विडिटी की कोई समस्या नहीं है यानी आप जब चाहें अपना पैसा निकाल सकते हैं। आम तौर पर, डेट फंडों की एक निश्चित परिपक्वता तिथि होती है।

एफडी से बेहतर रिटर्न

छोटी अवधि के निवेश के लिए एफडी भी एक विकल्प है. एफडी को एक सुरक्षित निवेश विकल्प भी माना जाता है. लेकिन अगर मुनाफे के नजरिए से देखें तो डेट फंड आपको एफडी से थोड़ा बेहतर रिटर्न दे सकते हैं। आम तौर पर 1 साल से 3 साल की एफडी पर आपको 6 फीसदी से लेकर 7.5 फीसदी तक ब्याज मिलता है. लेकिन डेट फंड का रिटर्न 9 फीसदी के आसपास माना जाता है. हालांकि, डेट फंड में निवेशकों को इक्विटी की तरह ऊंचे रिटर्न की उम्मीद नहीं करनी चाहिए।

कर नियम

टैक्स की बात करें तो डेट फंड से होने वाले मुनाफे पर टैक्स का प्रावधान है. 3 साल से पहले डेट म्यूचुअल फंड यूनिट बेचने से होने वाले मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स चुकाना पड़ता है। आपको इनकम टैक्स स्लैब के अनुसार लाभ पर टैक्स देना होगा। एफडी की बात करें तो 5 साल की एफडी टैक्स फ्री होती है. इससे कम अवधि की एफडी पर आपको इनकम टैक्स देना होगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.