डेंगू से जल्दी रिकवरी के लिए अपने लाइफस्टाइल में शामिल करें ये योगासन, मिलेंगे बेहतर परिणाम

डेंगू (Dengue) एक वायरल इंफेक्शन है जो दुनिया भर में ट्रॉपिकल और सब ट्रॉपिकल क्लाइमेट में पाया जाता है। ये कुछ एशियाई और लैटिन अमेरिकी देशों में गंभीर बीमारी और मृत्यु का एक प्रमुख कारण भी है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) के अनुसार, “डेंगू रोग की एक विस्तृत श्रृंखला का कारण बनता है।यह सबक्लिनिकल डिजीज से लेकर संक्रमित लोगों में फ्लू जैसे गंभीर लक्षणों तक हो सकते हैं। हालांकि ये बात आम नहीं हैं लेकिन कुछ लोगों को गंभीर डेंगू हो जाता है, जो गंभीर रक्तस्राव, अंग हानि और/या प्लाज्मा रिसाव से जुड़ी कई जटिलताएं हो सकती हैं।

जब उचित तरीके से इसका प्रबंधन नहीं किया जब गंभीर डेंगू से मृत्यु का खतरा अधिक जाता है।”अगर आपको डेंगू हो गया है, तो चिंता न करें क्योंकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बात को मानते हैं कि अच्छे पोषण, पर्याप्त आराम और कुछ योग आसनों की मदद से इस घातक मच्छर जनित बीमारी से जल्दी ही ठीक हुआ जा सकता है।

यहां हम आपके लिए लेकर आएं हैं कुछ योगासन (Yoga Asanas) जिनकी सहायता से आप डेंगू से जल्दी रिकवर कर पाएंगे…

दण्डासन

इसे करने के लिए सबसे पहले आराम से बैठ जाएं। फिर धीरे-धीरे अपने पैरों को आगे की दिशा में फैलाते हुए आगे बढ़ाएं। अपनी एड़ी को एक साथ लाते हुए अपने पैरों को जोड़ लें और पीठ को सीधा रखें। सामने की ओर देखें और अपनी रीढ़ को सहारा देने के लिए अपनी हथेलियों को अपने कूल्हों के पास फर्श पर रखें। अपने कंधे को आराम दें।

लाभ

यह मुद्रा आपके हैमस्ट्रिंग को फैलाती है, आपकी रीढ़ को लंबा करती है, आपकी मुद्रा में सुधार करती है, आपकी पीठ को मजबूत करती है और आपकी पेल्विस, जांघों और काल्फ की मांसपेशियों को मजबूत करती है।

मलासन

सीधे खड़े रहने के साथ इसकी शुरुआत करें और अपने घुटनों को मोड़ें, अपने पेल्विस को नीचे करें और इसे अपनी एड़ी के ऊपर रखें। सुनिश्चित करें कि आपके पैर फर्श पर सपाट रहें। आप या तो अपनी हथेलियों को अपने पैरों के पास फर्श पर रख सकते हैं या प्रार्थना की मुद्रा में उन्हें अपनी छाती के सामने जोड़ सकते हैं। रीढ़ को सीधा रखें।

लाभ

मलासन अभ्यासी के कूल्हों और कमर को खोलता है और टखनों, निचली हैमस्ट्रिंग, पीठ और गर्दन को फैलाता है। यह पाचन में सुधार करने और मुद्रा में सुधार करने में भी मदद करता है, आपके पेट को टोन करता है, आपके मेटाबॉलिज्म को मजबूत करता है, आपके पेल्विस और कूल्हे के जोड़ों को स्वस्थ और प्रसवपूर्व योग के लिए आदर्श रखता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.