home page

Weather Update: कई राज्यों में आसमानी आफत का कहर जारी, IMD ने इन राज्यों में किया मूसलाधार बारिश का अलर्ट जारी

मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली में आज यानी 28 जुलाई को बादल की गरज के साथ तेज बारिश हो सकती है। वहीं अगले कुछ दिन तक रुक रुक कर बारिश जारी रहने का अनुमान लगाया गया है।
 | 
Weather Update: कई राज्यों में आसमानी आफत का कहर जारी, IMD ने इन राज्यों में किया मूसलाधार बारिश का अलर्ट जारी

देश के ज्यादातर राज्यों में बाढ़ और बारिश कहर बरपा रहे हैं। शहर हों या गांव तबाही की तस्वीर हर जगह दिख रही है। इस तबाही के साइडइफेक्ट्स भी दिख रहे हैं। वहीं आज से अगले तीन दिन तक मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली और महाराष्ट्र में भारी बारिश का पूर्वानुमान है।

दिल्ली में आज 28 जुलाई से तेज बारिश की संभावना है। अब तक यूपी, बिहार और झारखंड के कई जिलों में बारिश की कमी बनी हुई है। लेकिन अब बिहार और झारखंड दोनों राज्यों के लिए भी अच्छी खबर ये आई है कि यहां बारिश की कमी जल्द ही दूर होगी। यहां 28 जुलाई से मानसून के तेजी से सक्रिय होने का पुर्वानुमान लगाया गया है।

यूपी-बिहार में बारिश का अलर्ट

यूपी और बिहार में 20 जुलाई से बारिश का दौर शुरू हुआ है। वेदर एजेंसी स्काईमेट वेदर के अनुसार मानसून की अक्षीय रेखा अब राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ से होकर गुजर रही है। मॉनसून की ट्रफ 28 जुलाई तक भारत के गंगा के मैदानी इलाकों के ऊपर पहुंची जाएगी।

इसलिए 28 जुलाई को उत्तर प्रदेश और बिहार में भी बारिश की गतिविधियां तेज हो जाएंगी और कम से कम अगले 3 दिन तक भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है।

झारखंड के इन जिलों में बारिश के आसार

झारखंड के कई जिलों में बारिश की संभावना है। मौसम विभाग (आईएमडी) रांची के अनुसार साहिबगंज, बोकारो, गिरिडीह, रामगढ़, सिमडेगा जिले के कुछ भागों में अगले एक से तीन घंटे में वज्रपात के साथ तेज बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया है।

हिमाचल में भारी बारिश का पूर्वानुमान

हिमाचल प्रदेश के शिमला, बिलासपुर, सिरमौर, सोलन, ऊना, हमीरपुर, कांगड़ा, मंडी, कुल्लू, चंबा और आसपास के इलाकों में अगले 48 से 72 घंटों के दौरान मध्यम से भारी बारिश होने का अनुमान है।

IMD के मुताबिक अगले 48 घंटों के दौरान लाहौल-स्पीति और किन्नौर के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश होने का अनुमान है। इस दौरान कुछ हिस्सों में अचानक बाढ़ आने की आशंका जताई गई है।

उत्तराखंड के कई जिलों के लिए येलो अलर्ट

उत्तराखंड की बात करें तो मौसम विभाग ने अगले 3 दिनों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है।

मौसम विभाग के मुताबिक उत्तरकाशी, बागेश्वर, नैनीताल देहरादून, चमोली, रुद्रप्रयाग पिथौरागढ़ में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है।

इसके साथ ही इन इलाकों में भूस्खलन और सड़क खिसकने का खतरा है। लिहाजा अगले 72 घंटों तक तो इन इलाकों में जाने से परहेज करें।

मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ का हाल

मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार अगले 3-4 दिन तक मध्यप्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश की आशंका है।

वहीं मौसम विभाग ने छत्तीसगढ़ के 5 जिलों में रेड अलर्ट और 14 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है और साथ ही वहां के अधिकारियों ने भारी बारिश को देखते हुए सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं।

हालांकि पिछले कुछ दिनों से छत्तीसगढ़ के कई हिस्सों में भी भारी बारिश के चलते बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है, लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

राजस्थान में जारी रहेगा बारिश का दौर

राजस्थान के कई इलाकों में लगातार भारी बारिश हो रही है। जिससे जनजीवन पर असर पड़ा है। यहां पर बात करें सड़कों के बुरे हाल की तो बारिश ने शहर की सड़कों की तस्वीर बदल दी है, नगर की प्रमुख सड़कें भी गहरे-गड्ढों में बदल गई हैं।

जल निकासी की ठोस इंतजाम नहीं होने से बुरा हाल है। जर्जर सड़कों से लोगों का निकलना मुश्किल हो रहा है।

गहरे गड्ढों में भरे पानी से अंदाजा लगाना मुश्किल है, कि कहां पानी है और कहां सड़क टूटी है। ऐसे में वाहन कई बार दुर्घटनाग्रस्त होते होते बच रहे है।

कैसा रहेगा राजधानी दिल्ली का मौसम?

मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली में आज यानी 28 जुलाई को बादल की गरज के साथ तेज बारिश हो सकती है। वहीं अगले कुछ दिन तक रुक रुक कर बारिश जारी रहने का अनुमान लगाया गया है।

वहीं हरियाणा, उत्तरी पंजाब, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, तटीय कर्नाटक, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा और गुजरात क्षेत्र में आज हल्की से मध्यम बारिश संभव है।

उत्तर प्रदेश, आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, लक्षद्वीप राजस्थान के शेष हिस्सों और दिल्ली-एनसीआर में हल्की बारिश संभव है।

भारी बारिश से स्कूलों का बुरा हाल

हाथ में छाता लेकर टीचर पढ़ा रहे हैं और बच्चे उन्हें ध्यान से सुन रहे हैं। मध्य प्रदेश के सिवनी के एक स्कूल में हो रही ऐसी पढ़ाई की खबर से आपको बच्चों के मन में उनका जुनून दिख रहा होगा। वहीं दूसरी ओर इससे सिस्टम पर सवाल उठ रहे हैं। सिवनी के खैरीकला गांव के इस सरकारी स्कूल की छत से बारिश का पानी लगातार टपकता है तो कमरों में पानी भर जाता है।

ये हाल सिर्फ एक क्लास रूम का नहीं बल्कि पूरे स्कूल का है। छत का हाल इतना बुरा है कि कब गिर जाए पता नहीं। स्कूल में पहले भी हादसा हो चुका है तब तो एक छात्र को चोट भी लगी थी। वहीं यूपी के कुछ सरकारी स्कूलों के हालात भी ऐसे ही है। मथुरा के एक सरकारी स्कूल में बच्चों की कुर्सी का पुल बनाकर छात्र अपने कपड़ों और किताबों को भीगने से बचाते हैं।

मथुरा के दघेटा गांव के प्राथमिक विद्यालय में थोड़ी सी बारिश के बाद पूरे स्कूल में पानी भर जाता है। बच्चे हों या टीचर, सभी के लिए इस पानी के बीच से ही क्लासरूम में पहुंचना होता है। इस बार एक टीचर ने पानी को पार करने के लिए कुर्सी के पुल का सहारा लिया। टीचर ने बच्चों से कुर्सियां लगवा दीं और उनके ऊपर से होकर पानी को पार किया। इस वाकये का वीडियो भी वायरल हो रहा है।