UPSC परीक्षा मे 2 बार असफल होने के बाद Varuna Agarwal के इस प्लान ने उन्हे बनाया कामयाब IAS

​IAS Success Story: UPSC एग्जाम क्लीयर करने के लिए टॉपर्स कई तरह की स्ट्रैटजी बताते हैं, जो एग्जाम की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को इंस्पायर करती है।

ऐसी ही कुछ स्ट्रैटजी वरुणा अग्रवाल ने भी बताई, जिन्होंने शुरुआती दो अटेम्प्ट में असफलता मिलने के बाद भी हार नहीं मानी और थर्ड अटेम्प्ट में 38वीं रैंक हासिल कर IAS बनने का सपना पूरा किया।

स्कूल में कर लिया था डिसाइड 

वरुणा ने हाई स्कूल के दौरान ही डिसाइड कर लिया था कि वह UPSC क्लीयर कर सिविल सर्विसेज़ जॉइन करेंगी। ग्रेजुएशन करते ही वह पूरी तरह से UPSC की तैयारियों में लग गईं, दो अटेम्प्ट में असफलता के बाद उन्होंने थर्ड अटेम्प्ट में एग्जाम क्लीयर कर दिखाई।

अभ्यर्थियों के लिए उन्होंने कहा कि शुरुआती अटेम्प्ट में असफलता मिलने से अभ्यर्थियों को निराश नहीं होना चाहिए और अपना टारगेट तय कर प्रोपर शेड्यूल बनाकर तैयारी करना चाहिए। 

UPSC की तैयारी के लिए वरुणा का कहना है कि किसी टॉपिक में होने वाली कन्फ्यूजन को दूर करने के लिए अभ्यर्थियों को किसी एक प्रकाशन पर ही भरोसा कर उसी से पढ़ाई करना चाहिए।

ज्यादा प्रकाशन की किताबों से पढ़ाई करने से कन्फ्यूजन कम होने की बजाय बढ़ जाएगी। सिलेबस का समय-समय पर रिवीजन करते रहें, जिससे कि पढ़ा हुआ लगातार याद में रहे और आपको अपनी तैयारियों का भी पता लग सके। 

वरुणा बताती हैं कि अभ्यर्थियों को एग्जाम की तैयारी करने के साथ ही अपने ओवरऑल डॅवलपमेंट पर भी ध्यान देना चाहिए। सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने का फायदा अभ्यर्थियों को इंटरव्यू में मिलेगा। 

Leave A Reply

Your email address will not be published.