ममता बनर्जी के साथ भी आ जाएं नीतीश, हेमंत और अखिलेश तो BJP का क्या बिगड़ेगा?

नई दिल्ली। नीतीश कुमार की तरह ममता बनर्जी ने 2024 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विजय रथ को रोकने के लिए विपक्षी एकजुटता का आह्वान किया है। हालांकि, उन्होंने पश्चिम बंगाल में ही वर्षों तक राज करने वाली लेफ्ट पार्टियों के साथ-साथ कांग्रेस से भी परहेज किया है।

ममता जब विपक्षी एकता की बात कर रही थीं तो उन्होंने सिर्फ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव का नाम लिया।

ममता बनर्जी ने 2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए जिन विपक्षी दलों के साथ हाथ मिलाने की बात कही है, उनका जनाधार अपने राज्यों के बाहर नहीं है। भाजपा भी लगातार यह बात कहती आ रही है कि किसी एक राज्य में तो महागठबंधन का फॉर्मूला चल सकता है, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर इसकी व्यवहारिकता नहीं दिखती है।

ममत बनर्जी, नीतीश कुमार, अखिलेश यादव और हेमंत सोरेन जैसे नेता अगर चुनाव से पहले एकक गठबंधन बना भी लें तो इससे भाजपा की ताकत कमजोर नहीं होने वाली है। ऐसा इसलिए कि झारखंड में हेमंत सोरेन जरूर मजबूत हैं, लेकिन वहां ममता बनर्जी या अखिलेश यादव का कोई जनाधार नहीं है।

ऐसे ही यूपी में अखिलेश यादव के पास अपने वोट बैंक है, लेकिन यहां ममता बनर्जी, नीतीश कुमार और हेमंत सोरेन जैसे नेताओं का आधार नहीं है। हालांकि, लोकसभा चुनाव के परिणाम में एगर बीजेपी पिछड़ती है तो इनके साथ आने पर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की कुर्सी से दूर हो सकते हैं।

नीतीश का नाम, लेकिन लालू यादव से परहेज

ममता बनर्जी ने टीएमसी नेताओं और कार्यकर्ताओं के अपने संबोधन में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का तो नाम लिया, लेकिन उन्होंने लालू यादव का नाम लेने से परहेज किया, जो कि आरजेडी के मुखिया हैं।

बिहार में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू इन दिनों आरजेडी के सहयोग से सत्ता चला रही है। कांग्रेस का भी इसमें साथ है। इस महागठबंधन में आरजेडी सबसे बड़ी पार्टी है। दोनों ही दलों को बिहार से बाहर कोई ठोस जनाधार नहीं है। जेडीयू के उरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में कुछ विधायक जरूर जीतते हैं, लेकिन हिंदी पट्टी में उनकी स्थिति कोई अच्छी नहीं है। आरजेडी का पूरा फोकस बिहार पर ही केंद्रित रहा है।

कांग्रेस के रहते जेएमएम देगा ममता का साथ?

झारखंड पश्चिम बंगाल का पड़ोसी राज्य है। ममता बनर्जी ने हेमंत सोरेन के साथ गठबंधन की तो बात कही है, लेकिन कांग्रेस का अभी तक नाम नहीं लिया है। जेएमएम इन दिनों कांग्रेस के साथ मिलकर झारखंड में सरकार चला रही है। ऐसे में यहां वैसे भी ममता के जेएमएम से गठबंधन के आसार नहीं बन रहे हैं। हेमंत सोरेन को अपने पाले में करने के लिए ममता बनर्जी पूरी कोशिश कर रही है।

हाल ही में ममता बनर्जी ने दावा किया कि ”हाल ही में बंगाल पुलिस ने झारखंड के विधायकों को बहुत अधिक नकदी के साथ गिरफ्तार करके” पड़ोसी राज्य में खरीद-फरोख्त को रोका और हेमंत सोरेन सरकार को गिरने से बचाया। झारखंड में झामुमो के नेतृत्व वाली सरकार का हिस्सा रही कांग्रेस ने दावा किया है कि भाजपा विधायकों को 10-10 करोड़ रुपये और मंत्री पद की पेशकश करके हेमंत सोरेन सरकार को गिराने की कोशिश कर रही थी।

ऐसे में यह कहना सियासी रूप से जल्दबाजी होगी कि अलग-अलग राज्यों के बड़े नेताओं के एकसाथ आने से 2024 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के प्रदर्शन पर कोई असर पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *