क्या होता है थायराइड कैंसर और इसके कितने होते है प्रकार? जानिये कारण, लक्षण और बचाव

0

नई दिल्ली, 21 सितम्बर, 2023 : दुनियाभर में सितंबर महीने को थायराइड कैंसर जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है। इस माह को मनाने की शुरुआत सबसे पहले ThyCa: थायराइड कैंसर सर्वाइवर्स एसोसिएशन द्वारा साल 2000 में एक सप्ताह के रूप में हुई थी।

लेकिन साल 2003 में इसका विस्तार पूरे सितंबर महीने तक हो गया। यह खास महीना थायराइड कैंसर के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।  आजकल सुस्त जीवनशैली और खानपान की खराब आदतों की वजह से ज्यादातर लोग सेहत से जुड़ी कई समस्याओं से घिरे हुए हैं।

इन्हीं समस्याओं में से एक थायराइड कैंसर भी है। जिससे बचने के लिए उसका इलाज और पहचान समय पर होना बेहद जरूरी है। 

क्या होता है थायराइड कैंसर ?

थायराइड एक ग्रंथि होती है, जो हमारे गले में आगे के हिस्से में मौजूद होती है। यह ग्रंथि थायराइड हार्मोन नाम के एक महत्वपूर्ण हार्मोन को उत्पन्न करती है, जो व्यक्ति के मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित रखती है। थायराइड हार्मोन शरीर के तापमान, रक्तचाप और हृदय गति को नियंत्रित रखने में भी मदद करता है।

लेकिन जब थायरॉइड की कोशिकाएं अपने डीएनए में परिवर्तन विकसित करती हैं या उत्परिवर्तित होती हैं तो थायराइड कैंसर विकसित होने लगता है। थायराइड में असामान्य कोशिकाएं बढ़ने लगती हैं और एक बार पर्याप्त मात्रा में हो जाने पर, वे एक ट्यूमर का निर्माण करती हैं।

हालांकि अगर समय पर इस रोग का निदान कर लिया जाए तो इसका इलाज संभव है। पुरूषों के मुकाबले महिलाओं में थायराइड कैंसर होने की संभावना अधिक होती है। थायराइड कैंसर किसी भी आयु वर्ग में हो सकता है, हालांकि यह 30 साल की उम्र के बाद सबसे आम है, और बुजुर्ग रोगियों में इसकी आक्रामकता काफी बढ़ जाती है।

थायराइड  कैंसर कितने प्रकार का होता है ?

आमतौर पर थायराइड कैंसर के चार मुख्य प्रकार हैं। जो कि पैपिलरी, फॉलिक्यूलर, मेडुलरी और एनाप्लास्टिक हैं । पैपिलरी इस कैंसर का सबसे आम प्रकार है। खास बात यह है कि ये चारों कैंसर एक दूसरे से अपनी आक्रामकता की वजह से अलग हैं। 

थायराइड कैंसर के मुख्य प्रकार :

पैपिलरी थायराइड कैंसर

यह सबसे आम थायराइड कैंसर का प्रकार है और लगभग 80 प्रतिशत से अधिक मामलों में पाया जाता है। यह कैंसर पैपिलरी कोशिकाओं से विकसित होता है और आमतौर पर धीरे-धीरे बढ़ता है। पैपिलरी थायराइड कैंसर के अधिकांश मामले स्वस्थ तरीके से उपचार किए जा सकते हैं।

फोलिक्यूलर थायराइड कैंसर

यह भी एक प्रकार का पैपिलरी थायराइड कैंसर ही होता है, लेकिन यह थायराइड के फोलिक्यूलर कोशिकाओं से विकसित होता है। फोलिक्यूलर थायराइड कैंसर भी धीरे-धीरे बढ़ता है और सामान्यत: रूप से अच्छा उपचार करके सामर्थ्यपूर्ण है।

मेडुलरी थायराइड कैंसर

इस प्रकार के कैंसर मेडुल्लर कोशिकाओं से विकसित होता है और अधिक आक्रमक होता है। मेडुल्लर थायराइड कैंसर का इलाज आमतौर पर सर्जिकल रिमूवल के साथ होता है, और इसका परिवार में आने के जोखिम भी होता है।

एनाप्लास्टिक थायराइड कैंसर

एनाप्लास्टिक थायरॉयड कार्सिनोमा एक दुर्लभ प्रकार का थायराइड कैंसर है। यह एक आक्रामक प्रकार और तेजी से बढ़ने वाला थायराइड कैंसर है और इसकी कोशिकाओं की तेजी से अनियंत्रित वृद्धि और कैंसर चिकित्सा के प्रतिरोध के कारण इसका उपचार कठिन हो सकता है।

थायराइड लिम्फोमा-
यह थायराइड कैंसर का एक अत्यधिक दुर्लभ प्रकार है और इसका उपचार बाधाकारक होता है। थायराइड लिम्फोमा कैंसर थायराइड कोशिकाओं की जगह थायराइड के लिम्फ नोड्स से विकसित होता है।

थायराइड कैंसर के लक्षण

थाइराइड कैंसर के लक्षण सामान्यत: होते हैं और इसे पहचानना कठिन हो सकता है। अक्सर लोग इसे अनदेखा कर देते हैं, क्योंकि इसके पहले लक्षण गंभीर नहीं होते हैं।

गर्दन पर गांठ का महसूस होना, आपकी आवाज में बदलाव, निगलने में परेशानी होना, गर्दन और गले में दर्द, गर्दन में लिम्फ नोड्स में सूजन, खांसी।

थायराइड कैंसर के कारण :

आनुवांशिक कारण

थाइराइड कैंसर का परिवार में होने के कारण इसका जोखिम बढ़ सकता है। यदि पहले से ही परिवार के किसी सदस्य को थाइराइड कैंसर का संदेह हो, तो उनके लिए खतरा बढ़ जाता है।

रेडिएशन अपशिष्ट- 
अधिक मात्रा में रेडिएशन का अपशिष्ट सीधे थाइराइड को प्रभावित कर सकता है, जैसे कि किशोर कों को कैंसर उपचार के दौरान इकाई रेडिएशन के उपयोग में किया जाता है।

लिंग

थायराइड की लगभग सभी बीमारियां पुरुषों की तुलना में महिलाओं में लगभग 3 गुना अधिक बार होता है। थायराइड कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन पुरुषों (जो आमतौर पर उनके 60 या 70 के उम्र मे) की तुलना में महिलाओं के लिए जोखिम पहले होता है (जो अक्सर जांच होने पर उनके 40 या 50 के उम्र मे होती हैं)।

थायराइड कैंसर का जांच 

थायराइड कैंसर का कोई भी लक्षण महसूस होने पर डॉक्टर आपको इनमें से एक या अधिक परीक्षणों की सलाह दे सकता है-

ब्लड टेस्ट

इस प्रक्रिया में शरीर में अंगों और ऊतकों द्वारा रक्त में जारी कुछ हार्मोन की मात्रा को मापने के लिए खून के नमूने की जांच की जाती है। थायराइड ब्लड टेस्ट हार्मोन के स्तर की जांच करता है और यह पता लगाता है कि आपकी थायरायड ग्रंथि ठीक से काम कर रही है या नहीं।

बायोप्सी

थायराइड कैंसर की असल जांच बायोप्सी से की जाती है, जिसमें संदिग्ध क्षेत्र से कोशिकाओं को हटाकर लैब में देखा जाता है। यदि आपके डॉक्टर को लगता है कि बायोप्सी की जरूरत है, तो यह पता लगाने का सबसे आसान तरीका है कि थायरॉइड गांठ या नोड्यूल कैंसर है या नहीं।

रेडियोआयोडीन स्कैन

इसमें आप एक सुरक्षित मात्रा में रेडियोधर्मी आयोडीन (रेडियोआयोडीन) वाली गोली का सेवन करते हैं। कुछ घंटों में, थायरॉयड ग्रंथि आयोडीन को अवशोषित कर लेती है। जिसके बाद डॉक्टर ग्रंथि में रेडिएशन की मात्रा को मापने के लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग करते हैं।

कम रेडियोएक्टिविटी वाले क्षेत्रों में कैंसर की उपस्थिति की पुष्टि के लिए अधिक परीक्षण की आवश्यकता होती है।

इमेजिंग परीक्षण

इमेजिंग परीक्षणों में सीटी, एमआरआई और न्यूक्लियर इमेजिंग परीक्षण शामिल हो सकते हैं जो आयोडीन के रेडियोएक्टिव फॉर्म का उपयोग करते हैं।

इलाज

थाइराइड कैंसर के इलाज के लिए कई विकल्प हो सकते हैं, लेकिन यह इलाज व्यक्ति के कैंसर के स्थान, प्रकार, और चरणों पर निर्भर करता है।

थायराइडक्टोमी

थायराइडेक्टॉमी एक ऑपरेशन है जिसमें थायरायड ग्रंथि के सभी या उसके हिस्से को शल्य चिकित्सा द्वारा निकालना शामिल होता है।

रेडिययोइड थेरेपी

कुछ मामलों में, इसके बाद रेडियोथेरेपी की आवश्यकता होती है ताकि बचे हुए कैंसर को समाप्त किया जा सके। इसमें रेडियो आयोडीन थेरेपी का उपयोग किया जाता है, जो कैंसर को नष्ट करता है।

कैंसर की रोकथाम

अगर थाइराइड कैंसर का प्रारंभिक चरण है और यह किसी अन्य बड़ी बीमारी के साथ जुड़ा होता है, तो रोकथाम के तरीके का इस्तेमाल किया जा सकता है।

थाइराइड कैंसर से बचाव :

स्वास्थ्यपूर्ण जीवनशैली

स्वास्थ्यपूर्ण आहार और नियमित व्यायाम के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर थाइराइड कैंसर से बचाव में मदद मिल सकती है।

नियमित चेकअप

थाइराइड कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए नियमित चेकअप करवाना महत्वपूर्ण है, खासकर जब परिवार में इसका इतिहास हो।

रेडिएशन से सतर्क रहें

यदि आप किसी रेडिएशन उपयोग में हैं, तो विशेष रूप से सतर्क रहें और सुरक्षित उपायों का पालन करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.